Press "Enter" to skip to content

Meditation ध्यान क्या है क्यों करें और इसके फायदे क्या है

दोस्तों सबसे पहले हम जानेंगे कि meditation होता क्या है। यह हमारी mental capacity को बढ़ाने के लिए किस तरह जरूरी होता है। दोस्तों जिस तरह से हम हमारे शरीर को healthy रखने के लिए exercise करते हैं उसी तरह से हमें हमारे मानसिक स्थिति को सही रखने के लिए meditation करना जरूरी होता है। आज का वक्त व्यस्ततम भरा है और आज के वक्त में हर किसी को इतना वक्त नहीं मिल पाता कि वह अपने मानसिक स्थिति के लिए वक्त निकाल सके। इस Tension भरे दौर में भला किसको Tension नहीं होता। इस दौर में कोई अपने मन के लिए अपने दिमाग के लिए सोच नहीं पाता कि हमें उसकी सेहत का भी ध्यान रखना है। Tension के कारण मन अस्थिर रहता है जिस से कि व्यक्ति अपने कार्यस्थल पर और अपनी life में भी बोरियत महसूस करने लगता है। ऐसे में व्यक्ति भूल जाता है कि उसे एक जीवन मिला है। इस हालात में व्यक्ति अपने जीवन को जीना ही भूल जाता है। इस तनाव के कारण व्यक्ति निरंतर hospital के चक्कर काटता रहता है। Tension के कारण व्यक्ति का शरीर बीमारियों का घर हो जाता है और व्यक्ति के शरीर को निरंतर दवा लेने की जरूरत पड़ती है और वह दवा का आदी हो जाता है। मन को एकाग्र करने की क्रिया ही meditation कहलाती है। हमारा मन जितना एकाग्र होता है हम उतनी ही अच्छी तरह से work कर पाते हैं। इंसान भूल जाता है कि उसकी प्रकृति में शारीरिक प्रकृति है और मानसिक प्रकृति भी। प्रतिदिन सुबह जल्दी उठकर meditation करने से व्यक्ति अपने goal की ओर अग्रसित होता है और साथ ही अपने मानसिक और शारीरिक विकास को गति प्रदान करता है। इंसान जो Tension के कारण अपना जीवन जीना भूल गया था वह meditation करने के बाद में अपना एक जीवन जीने लगता है। meditation करने के बाद व्यक्ति का मन स्थिर रहने लगता है जिससे कि उसका मन हर कार्य की ओर लगता है।

क्यों करें meditation

दोस्तों यदि आप सुबह उठकर 15 से 20 मिनट तक meditation करते हैं तो जिस capacity से आपका जो कार्य होने वाला है वो उसी की दुगुनी capacity से कार्य होगा। आपकी जो Tension लेने की आदत थी वह जड़ से खत्म हो जाएगी आपको इतना समय नहीं मिलेगा कि आप Tension ले पाए। आपका मन सकारात्मकता की ओर बढ़ने लगेगा और आप सोच भी नहीं पाएंगे कि आप किस तरह से नकारात्मकता से दूर हो जाएंगे। meditation करने के बाद में ऐसा कोई लक्ष्य नहीं होगा जिस पर इंसान पहुंच ना पाए। जिस तरह से हम कभी कभी दौड़ते दौड़ते थक जाते हैं और हम हमारे शरीर को स्थिर करके उसकी थकान दूर करना चाहते हैं ठीक उसी प्रकार हमें हमारे मन को ज्यादा सोचने से रोकने के लिए उसे स्थिर करना जरूरी है उसे एकाग्र करना जरूरी है जिसके लिए meditation किया जाता है। दोस्तों योगा,आसन करने के लिए हमें सोचना पड़ता है कि हमारा पेट खाली है या नहीं लेकिन आपको meditation करने के लिए यह सब कुछ सोचने की जरूरत नहीं आपको जब भी टाइम मिलता हो तब आप अपने मन को एकाग्र करने की कोशिश करें यही meditation है लेकिन इस बात को ध्यान रखें कि हो सके जितना meditation सुबह उठकर जल्दी ही करें।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *