जानिए दुनिया के 10 सबसे तेज़ और बहादुर योद्धा के बारे

दुनिया में ऐसे भी राजा हुए है जो अपनी कुशल युद्ध नीति के कारण बैठे बैठे युद्ध जीत लेते थे। लेकिन कुछ ऐसे भी राजा हुए है जो महान राजा होने के साथ एक अच्छे योद्धा भी थे जो अपनी सेना के साथ मिलकर युद्ध लड़ते और जीतते भी थे। इतिहास में कई साहसी योद्धाओं ने अपनी वीरता और कौशलता को साबित किया है उनमें 10 ऐसे महान योद्धा थे जिन्हें आज भी लोग जानते है और उनके बारे में पढ़ा करते है,इतिहास में उनकी वीरगाथाओ से पता चलता है कि वे कितने साहसी, निडर,क्रूर थे जिससे ना केवल उन्होंने अपने दुश्मनों को हराया बल्कि अपने राज्यो का विस्तार किया। इतिहास में कुछ राजा ऐसे भी थे जिन्होंने दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में अपना कब्जा जमाया था और कुछ ने तो पूरी दुनिया पे राज किया था। दुनिया के वो दस महान योद्धा अथवा राजा कुछ इस प्रकार से है:-

Spartacus

सबसे पहले आते है स्पार्टाकस,उनका जन्म 109 ईसा पूर्व ग्रीस में हुआ था। स्पार्टाकस एक गुलाम था, जिसे ग्लैडिएटर भी कहते है। स्पार्टाकस में साहस और स्वतंत्रता का ऐसा जुनून था कि इसकी वजह से रोमन साम्राज्य ने गुलामों का ऐसा विद्रोह देखा जो कि इतिहास में पहले कभी किसी ने नहीं देखा था। 73 ईसा पूर्व में स्पार्टाकस कुछ गुलामों के साथ रोम की गुलामो वाली जेल तोड़ कर भाग निकला था। उसके बाद उसने अन्य गुलाम नेताओ के साथ मिलकर सारे गुलामों के समहू को सेना में संगठित किया और पूरे रोम साम्राज्य से स्वतंत्रता का युद्ध छेड़ दिया । उसने रोम से कई युद्ध जीते लेकिन कहते है 71 ईसा पूर्व रोम से एक युद्ध लड़ते उसकी मौत हो गई थी, पर इतिहास में इसका कोई पुख्ता सबूत नहीं है। पूरे रोम को इतना आतंकित किसी अकेले व्यक्ति ने नहीं किया जितना स्पार्टाकस ने रोम को किया। वह एक महान योद्धा था।

Xiahou dun

Xiahou dun, उसका जन्म चाइना के बोजूआ में 155 ईसवी में हुआ था। वह राजवंश परिवार से संबंधित रखता था और वह काऊ-काऊ सेना का मिलेटरी जनरल था।Xiahou dun जवानी में बहुत गुस्सैल था। वह हर युद्ध पागलपन और बहादुरी से लड़ता था। Xiahou dun के बारे में जो घटना सबसे जायदा प्रसिद्ध है वो यह है कि एक युद्ध के दौरान उसकी बाईं आंख में अचानक से कहीं से तीर लगा, उसने वह तीर अपने हाथ से पकड़कर अपनी आंख से बाहर खींचा तो उस तीर के साथ साथ उसकी बाईं आंख भी बाहर निकल गई अपने अचंभित सैनिकों और दुशमनों के सामने वो अपनी बाईं आंख को निगल गया। इस घटना के बाद चीन भर में दुश्मन सेना के सैनिक एक आंख वाले योद्धा के डर से पीड़ित थे। Xiahou dun जिस पागलपन, साहस, निडरता पूर होकर लड़ता था उसे देख कर अच्छे अच्छे दुश्मनों के पसीने छूट जाते थे। Xiahou dun की मृत्यु 220 ईसवी में हो गई थी।

Pyrrhus of Epirus

Pyrrhus का जन्म 319 ईसवी में हुआ था। Pyrrhus अलेनेस्तिक राज्य का एक महत्वाकांक्षी राजा था। इतिहास में उसका नाम एक महान योद्धा और एक कुशल रणनीति कारक में सबसे ऊपर आता है। Pyrrhus ने पच्चीस हजार सैनिकों और केवल बीस हाथियों की छोटी सी टुकड़ी की मदद से इटली और रोम पर आक्रमण किया और रोमन राज्य पे जीत हासिल की। उसके बाद उसने मगदुनिया को हराया जबकि उसके पास केवल एक छोटी सी सेना थी।उसने बहुत से युद्ध लड़े और वो हमेशा सैनिकों के बीच में जाके युद्ध लड़ता था और दुश्मनों को पराजित करता था।उसके बाद उसने “मेसोडोनिया” और “स्पार्टन” पर भी आक्रमण किया। वह 272 ईसवी में सड़क पर टहलते हुए अचानक हमले में मरा गया था वह एक महान योद्धा था।

Miyamoto musashi

Miyamoto musashi का जन्म जापान में हुआ था। Miyamoto musashi एक जापानी तलवारबाज और अजय रोनिन था। जापानी रोनिन को बिना गुरु का समुराई भी कहते है। वह मात्र ऐसा व्यक्ति था जो सिर्फ तेरह साल की उम्र में ही समुराई बन गया था। बहुत से एक्सपर्ट और इतिहासकारों के मुताबिक Miyamoto musashi को अबतक का दुनिया का सरवश्रेष्ठ तलवारबाज कहा गया है। वह हमेशा अकेला लड़ता और कभी कोई लड़ाई नहीं हारा। वह एक समय में कई तलवारबाजों के साथ आसानी से लड़ सकता था। Miyamoto musashi ने तलवारबाजी में कई तकनीकों का आविष्कार भी किया, जिसमे सबसे लोकप्रिय दो तलवारों से एक साथ लड़ने की कला है। उसने तलवारबाजी पे किताबे भी लिखी।

King Richard- The Lion Heart

King Richard का जन्म 157 ईसवी में इंग्लैंड में हुआ था। वह राजवंश परिवार से तालुक रखता था,उसके पिता उस समय इंग्लैंड के राजा थे। उनके बाद वे भी वहां का राजा बना। King Richard तीसरे धर्म युद्ध के दौरान होने वाली लड़ाइयों के कारण प्रसिद्ध हुआ, जहां वे मुस्लिम राजा जलाद्दीन के खिलाफ लडा था। King Richard अपने जीवन काल में इतने युद्ध लड़े की वह अपने 10 साल के राज्यकाल में केवल 6 महीने ही इंग्लैंड में रहा। King Richard को lion heart इसलिए कहा जाता है क्योंकि वह अपने दुश्मनों पर किसी भी प्रकार की दया नहीं दिखता था। वह एक महान योद्धा, ग्रेट लीडर और साहसी सैनिक होने के साथ साथ एक समझदार राजा भी था। उसने तृतीय धर्म युद्ध में मुस्लिम प्रचार को इंग्लैंड में घुसने नहीं दिया था इसलिए इंग्लैंड के इतिहासकारों ने King Richard को एक महत्वपर्ण स्थान दिया है।

Hannibal Barca

Hannibal Barca का जन्म क्रोशिया मै हुआ था। Hannibal Barca ने पैदल सेना, घुड़सवार सेना, तीरंदाजों आदि सेना को साथ रख एक ऐसी युद्ध की प्रणीति रखी जो आगे चल कर बहुत कारगर साबित हुई। Hannibal को महान योद्धा, शानदार रणनीतिकार और युद्ध में अजीब प्रयोगों का महारथी माना जाता है। Hannibal ने भी रोमन साम्राज्य के साथ अनेकों युद्ध किए, वह जबतक जिया तबतक रोमन का दुश्मन रहा। वह जहाजों से रोमन पे हमला नहीं के सकता था क्योंकि रोमन का समुंद्र पे कब्जा था। तो उसने हमला करने के लिए मशहूर पर्वत एल्फ पे अपनी सेना के साथ पैदल चलकर सफर किया। इस सफर मे Hannibal को अपनी आधी सेना को खोना पड़ा। उसने इस सफर में एक बर्फ पे इसलिए सराब डालकर आग लगवादी जिससे बर्फ पिघल जाए और वे आगे बढ़ सके। कैनाई का युद्ध Hannibal के द्वारा लडा गया सबसे प्रसिद्ध युद्ध है जिसमे रोमन के पच्चास से सत्तर हजार सैनिक मारे गए थे जबकि Hannibal के केवल चार हजार सैनिक ही मेरे गए थे। उस युद्ध में Hannibal ने ऐसी ऐसी रणनीतियों का इस्तेमाल किया जो कि उस समय कोई सोच भी नहीं सकता था।Hannibal की मृत्यु 184 ईसवी में हो गई थी।

Julius Caesar

Julius Caesar का जन्म 100 ईसवी इटली में हुआ था। Julius Caesar को रोम साम्राज्य का सबसे प्रसिद्ध राजा माना जाता है। Julius Caesar ने अपने राज्यकाल में जितना रोम का विकास और उत्थान किया उतना किसी राजा ने नहीं किया। Julius Caesar को युद्ध के मैदान में बहादुरी और साहस से लड़ने के लिए जाना जाता है। वह कभी भी किसी युद्ध में नहीं हारा। The Great Pompoi को उसने हराया उसके बाद उसने उसके बेटो को भी हराया। वह हमेशा अपने सैन्य कारनमो कि वजह से चर्चा में रहता था। आज भी दुनिया की शिक्षा पद्दिती में Julius Caesar को पढ़ाया जाता है तथा जगह जगह उसके नाटक किए जाते है। की मृत्यु राज्य के आंतरिक षणयंत्रो की वजह से 44 ईसवी में हो गई थी।

Leonidas of Spartan

Leonidas अपने 300 सैनिकों को साथ लेके लाखो पारसियों की सैनिको से लड़ने निकल गया था। Leonidas को इतिहास में बेमिसाल साहस, निडर योद्धा और क्रूर सैनिकों में से माना जाता है। Leonidas ने 300 सैनिकों के साथ लाखो पारसियों सैनिकों को मार गिराया था लेकिन बाद में स्पार्टन के किसी युद्ध में वह मारा गया था।

Genghis khan

का जन्म 1162 ईसवी में मंगोल में हुआ था। Genghis khan को मंगोल आक्रमणकारी के रूप में जाना जाता है। Genghis khan ने मंगोल साम्राज्य को बनाया और उसका विस्तार किया, उसके समय तक केवल वह ही एक इकलौता ईसा व्यक्ति था जिसने इतना बड़ा साम्राज्य बनाया और उसका विस्तार किया। उसने धरती का एक चौथाई हिस्सा कब्जा लिया था ,वह इतना विध्वंशक था कि उसके रास्ते में जो भी आया वह मारा गया। पूरे एशिया और यूरोप में उसका कब्जा हो गया था, एक अनुमान के अनुसार उसके कारण चार करोड़ लोगो की मौत हुई। Genghis khan को मिलिट्री जनरल,चतुर,चालाक कहा जाता है, उसके समय में पूरी दुनिया में मंगोल आक्रमणकारियों का इतना डर था कि लोगो के सपनों में भी Genghis khan आता था। इसी डर के कारण चीन के राजा

Alexander The Great

Alexander The Great को इंडिया ने सिकंदर भी कहा जाता है। Alexander The Great की मृत्यु 32 साल की उम्र में ही हो गई थी हालांकि उससे पहले उसने पूरी दुनिया को जीत लिया था, वह अपने सैनिकों के बीच जाके लड़ता और कभी भी कोई युद्ध नहीं हारा इसलिए इतिहासकारों ने Alexander के आगे The Great शब्द का उपयोग किया है। Alexander the Great ने 16 साल की उम्र तक अपनी युद्धकला और शिक्षा प्राप्त की बाद में उसने अपने राज्य सिघासन को संभाला,एक राजा के रूप के वह अपने पिता से भी आगे निकल गया उसने ना केवल समझदारी से राज किया बल्कि अपनी राज्यो की सीमाओं को भी बढ़ाया। Alexander the Great की मृत्यु के बाद उसके साम्राज्य में गृह युद्ध छिड़ गया जिससे उसके साम्राज्य के टुकड़े हो गए,फिर उसके बाद जयदातर छेत्रो को उसके जनरलों ने संभाला। Alexander the Great का नाम इतिहास में सबसे ऊपर रहेगा वह एक महान योद्धा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *